Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

NIA की इम्फाल, चेन्नई और रांची में नई शाखाएं

30th September, 2020

G.S. Paper-II (National)

चर्चा में क्यों-

  • गृह मंत्रालय ने 28 सितम्बर 2020 को राष्ट्रीय जांच एजेंसी एनआईए की तीन अतिरिक्त शाखाओं को इम्फाल, चेन्नई और रांची में स्थापित करने की मंजूरी दे दी है। एनआईए के अनुसार, इस निर्णय से आतंकवाद रोधी जांच एजेंसी को संबंधित राज्यों में किसी भी उभरती हुई स्थिति को लेकर जल्दी प्रतिक्रिया देने में मदद मिलेगी।
  • यह फैसला एनआइए की आतंकवाद से संबंधित मामलों और अन्य राष्ट्रीय सुरक्षा संबंधी मुद्दों की जांच क्षमता को मजबूत करेगा।

एनआईए: एक नजर में-

  • राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) भारत में आतंकवाद का मुकाबला करने हेतु भारत सरकार द्वारा स्थापित एक संघीय जाँच एजेंसी है। यह केन्द्रीय आतंकवाद विरोधी कानून प्रवर्तन एजेंसी के रूप में कार्य करती है। एजेंसी राज्यों से विशेष अनुमति के बिना राज्यों में आतंक संबंधी अपराधों से निपटने हेतु सशक्त है।
  • एनआईए का मुख्यालय दिल्ली में है। देश में इस समय इसकी नौ शाखाएं गुवाहाटी, मुंबई, जम्मू, कोलकाता, हैदराबाद, कोच्चि, लखनऊ, रायपुर और चंडीगढ़ में हैं। अब तीन और को मंजूरी दे दी गई है। इस एजेंसी को आतंकी गतिविधियों की जांच में विशेषज्ञता हासिल हैं।
  • मुंबई हमले के बाद आतंकवाद को समाप्त करने के लिए एनआईए का गठन साल 2008 में किया गया था। इसके संस्थापक महानिदेशक राधा विनोद राजू थे जिनका कार्यकाल 31 जनवरी 2010 को समाप्त हुआ था। इन के पश्चात यह कार्यभार शरद चंद्र सिन्हा ने संभाला है।
  • आतंकी हमलों की घटनाओं, आतंकवाद को धन उपलब्ध कराने एवं अन्य आतंक संबंधित अपराधों का अन्वेषण के लिए एनआईए का गठन किया गया जबकि सीबीआई आतंकवाद को छोड़ भ्रष्टाचार, आर्थिक अपराधों एवं गंभीर तथा संगठित अपराधों का अन्वेषण करती है।

नमामि गंगे अभियान

G.S. Paper-II (National)

चर्चा में क्यों?

हाल ही में प्रधानमंत्री ने “नमामि गंगे मिशन” के तहत उत्तराखंड में छह मेगा परियोजनाओं का वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उद्घाटन किया है।

उत्तराखंड के मेगा परियोजना के बारे में-

  • इन परियोजनाओं में 68 मिलियन लीटर प्रतिदिन की क्षमता वाले एक नए अपशिष्ट जल शोधन संयंत्र (एसटीपी) का निर्माण, हरिद्वार के जगजीतपुर में स्थित 27 एमएलडी क्षमता वाले एसटीपी के अपग्रेडेशन और हरिद्वार के ही सराई में 18 एमएलडी क्षमता वाले एसटीपी का निर्माण शामिल है।
  • जगजीतपुर का 68 एमएलडी क्षमता वाला एसटीपी, सार्वजनिक निजी भागीदारी से पूरी की गई पहली हाइब्रिड एन्यूटी मॉडल वाली परियोजना है। ऋषिकेश में लक्कड़घाट पर 26 एमएलडी क्षमता वाले एक एसटीपी का भी उद्घाटन किया जाएगा।
  • उत्तराखंड में हरिद्वारऋषिकेश क्षेत्र से गंगा नदी में लगभग 80 प्रतिशत अपशिष्ट जल बहाया जाता है, ऐसे में यहां कई एसटीपी परियोजनाओं का निर्माण गंगा नदी को स्वच्छ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

नमामि गंगे अभियान के बारे में-

  • सरकार ने जुलाई 2014 में गंगा नदी के प्रदूषण को समाप्त करने और नदी को पुनर्जीवित करने के लिए ‘नमामि गंगे’ नामक एक एकीकृत गंगा संरक्षण मिशन का शुभारंभ किया था ।
  • नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत गंगोत्री से शुरू होकर हरिद्वार, कानपुर, इलाहाबाद, बनारस, गाजीपुर, बलिया, बिहार में 4 और बंगाल में 6 जगहों पर पुराने घाटों का जीर्णोद्धार, नए घाट, चेंजिंग रूम, शौचालय, बैठने की जगह, सीवेज ट्रीटमेंट प्लान्ट, आक्सीडेशन प्लान्ट बायोरेमेडेशन प्रक्रिया से पानी के शोधन का काम किया जाएगा।

नमामि गंगे मिशन के उदेश्य-

  • गंगा की पूर्ण सफाई कर प्रदुषण मुक्त करना।
  • नमामि गंगे प्रोजेक्ट के द्वारा गंगा के किनारे बसे लोगों का आर्थिक उत्थान करना।

कैट क्यू वायरस

G.S. Paper-III (Environment)

सन्दर्भ:

  • वैज्ञानिकोंने भारत को एक और वायरस – कैटक्यू वायरस से आगाह किया है- जिसे चीन में बड़े पैमाने पर रिपोर्ट किया गया है और जिससे भारत में रोग उत्पन्न होने की आशंका है।
  • चीनऔर वियतनाम में क्यूलेक्स मच्छरों और सूअरों में इस वायरस की उपस्थिति दर्ज की गई है।

कैट क्यू वायरस क्या है?

यह ऑर्थोपोडाजनित वायरस (आर्बोवायरस) में से एक है।

प्रसार-

  • इसकाप्राकृतिक रोगवाहक मच्छर होता है।
  • कैटक्यू वायरस के प्राथमिक स्तनधारी रोगवाहक घरेलू सूअर होते हैं।

भारत अधिक असुरक्षित क्यों है?

  • रोगवाहकों की उपलब्धता, प्राथमिक स्तनधारी रोगवाहक (सूअर) और जंगली मैना से कैट क्यू वायरस की पुष्टि हुई है।

इसके अतिरिक्त, राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV), पुणे के शोधकर्ताओं ने विभिन्न भारतीय राज्यों से लिए गए 883 मानव सीरम नमूनों में से दो में वायरस के लिए एंटीबॉडी प्राप्त किया है, जो यह दर्शाता हैकि लोग कुछ हद तक वायरस के संपर्क में आये हैं।

मनुष्यों पर प्रभाव:

यह मनुष्यों में ज्वर की बीमारी, मेनिन्जाइटिस और बाल चिकित्सा इन्सेफेलाइटिस का कारण हो सकता है।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय

(National School of Drama- NSD)

  • यहविश्व में सबसे अग्रणी थिएटर प्रशिक्षण संस्थानों में से एक है।
  • भारतमें अपनी तरह का एकमात्र संस्थान है।
  • इसेसंगीत नाटक अकादमी द्वारा  एक घटक इकाई के रूप में 1959 में  स्थापित किया गया था।
  • 1975 मेंयह एक स्वतंत्र संस्था बन गई और इसे 1860 के सोसायटी पंजीकरण अधिनियम के तहत एक स्वायत्तशासी संगठन के रूप में पंजीकृत किया गया। भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय द्वारा इसे वित्तपोषित किया जाता है।
  • 1999 सेप्रारम्भ किया गया भारत रंग महोत्सव अथवा राष्ट्रीय रंगमंच महोत्सव’, राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (NSD) का वार्षिक रंगमंच उत्सव है। इसे एशिया के सबसे बड़े थिएटर महोत्सव के रूप में स्वीकार किया जाता है, जो पूर्णतः थिएटर को समर्पित है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow