Online Portal Download Mobile App हिंदी ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

Difference Between NRC and CAB

समाचार में क्यों?

नागरिकता कानून के विरुद्ध देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. इस विरोध प्रदर्शन की शुरुआत पूर्वोत्तर भारत के असम से हुई I प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरुद्ध देश भर में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों को दुर्भाग्यपूर्ण और बेहद निराशाजनक करार दियाI

  • संसद से नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) को 11 दिसंबर 2019 को मंजूरी मिल गई थी. इस विधेयक के पक्ष में 125 मत पड़े जबकि 105 सदस्यों ने इसके खिलाफ मतदान किया था I राष्ट्रपति ने इस विधेयक को 12 दिसंबर को मंजूरी दे दी थी. राष्ट्रपति की मंजूरी मिलते ही यह विधेयक नागरिकता संशोधन विधेयक कानून बन गया हैI
  • नागरिकता कानून के विरुद्ध देश के कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. इस विरोध प्रदर्शन की शुरुआत पूर्वोत्तर भारत के असम से हुईI इसके बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, दिल्ली की जामिया यूनिवर्सिटी में भी बहुत ही जबरदस्त प्रदर्शन हुए. हिंसक झड़पों के बाद, दिल्ली पुलिस ने हिंसा में शामिल होने के लिए कथित तौर पर जामिया के 100 से अधिक छात्रों को हिरासत में लिया.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरुद्ध देश भर में हो रहे हिंसक प्रदर्शनों को दुर्भाग्यपूर्ण और बेहद निराशाजनक करार दियाI
  • प्रधानमंत्री ने कहा कि नागरिकता कानून से किसी भी भारतीय को नुकसान नहीं होगाI

नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) क्या है?

  • यह विधेयक नागरिकता अधिनियम 1955 में बदलाव करेगाI इस विधेयक के तहत बांग्लादेश, पाकिस्तान, अफगानिस्तान समेत आस-पास के देशों से भारत में आने वाले हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी धर्म वाले लोगों को नागरिकता दी जाएगी I नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) संसद में पास होने और राष्ट्रपति की महुर लगने के बाद नागरिक संशोधन कानून (CAA) बन गया है.
  • नागरिकता संशोधन बिल में छह गैर-मुस्लिम समुदायों- हिंदू, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध और पारसी धर्म से संबंधित अल्पसंख्यक शामिल हैं I इस विधेयक के तहत 31 दिसंबर 2014 तक धर्म के आधार पर प्रताड़ना के चलते पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए धार्मिक अल्पसंख्यक के लोगों को भारतीय नागरिकता दी जाएगीI

पिछला नागरिकता मानदंड क्या थे?

  • भारतीय नागरिकता लेने के लिए भारत में 11 साल रहना अनिवार्य था I नए विधेयक के तहत पड़ोसी देशों के अल्पसंख्यक यदि पांच साल से भी भारत में रहे हों तो उन्हें भारतीय नागरिकता दी जा सकती हैI

एनआरसी (NRC) क्या है?

  • एनआरसी (NRC) असम में अधिवासित सभी नागरिकों की एक सूची है. वर्तमान में राज्य के भीतर वास्तविक नागरिकों को बनाए रखने और बांग्लादेश से अवैध रूप से प्रवासियों को बाहर निकालने हेतु अद्यतन किया जा रहा है. यह पहली बार साल 1951 में तैयार किया गया थाI
  • एनआरसी प्रक्रिया हाल ही में असम में पूरी हुईI हालांकि, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने नवंबर 2019 में संसद में घोषणा की कि एनआरसी पूरे भारत में लागू किया जाएगाI

NRC के तहत पात्रता मानदंड क्या है?

  • राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) की वर्तमान सूची में शामिल होने के लिए व्यक्ति के परिजनों का नाम साल 1951 में बने पहले नागरिकता रजिस्टर में होना चाहिए या फिर 24 मार्च 1971 तक की चुनाव सूची में होना चाहिए.
  • दस्तावेजों में: इसके लिए अन्य दस्तावेजों में जन्म प्रमाणपत्र, शरणार्थी पंजीकरण प्रमाणपत्र, भूमि और किरायेदारी के रिकॉर्ड, नागरिकता प्रमाणपत्र, स्थायी आवास प्रमाणपत्र, पासपोर्ट, एलआईसी पॉलिसी, सरकार द्वारा जारी लाइसेंस या प्रमाणपत्र, बैंक या पोस्ट ऑफिस खाता, सरकारी नौकरी का प्रमाण पत्र, शैक्षिक प्रमाण पत्र एवं अदालती रिकॉर्ड होना चाहिएI

प्रीलिम्स के लिए तथ्य

Peregrine falcon :

  • जर्नल ऑफ़ एक्सपेरिमेंटल बायोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, दुनिया के सबसे आम शिकारी पक्षियों में से एक, पेरग्रीन बाज़, जानवरों के साम्राज्य में सबसे तेज़ दृष्टि रखता है और प्रति सेकंड लगभग 130 फ्रेम दर्ज कर सकता है।
  • इसकी तुलना में, मनुष्य प्रति सेकंड अधिकतम 50 से 60 पलकें देखता है।

भारतीय फार्माकोपिया (आईपी):

  • भारतीय फार्माकोपिया (आईपी) को औपचारिक रूप से अफगानिस्तान के इस्लामी गणराज्य के सार्वजनिक स्वास्थ्य मंत्रालय के दवाओं और स्वास्थ्य उत्पादों के विनियमन विभाग द्वारा औपचारिक रूप से मान्यता दी गई है।
  • इसका उपयोग दवाओं और स्वास्थ्य उत्पादों की गुणवत्ता की प्रयोगशाला में सम्मानित फार्माकोपिया की आवश्यकता के आधार पर भी किया जाएगा।

आईपी क्या है?

  • आईपी ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, 1940 और नियम 1945 के अनुसार मानकों की आधिकारिक मान्यता प्राप्त पुस्तक है।
  • आईपी भारत में अपनी पहचान, शुद्धता और शक्ति के आधार पर निर्मित और विपणन की जाने वाली दवाओं के मानकों को निर्दिष्ट करता है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow