Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

समायोजन सुविधा (Liquidity Adjustment Facility- LAF) & सीमांत स्थायी सुविधा (Marginal Standing Facility- MSF)

G.S. Paper-III

संदर्भ-

  • हाल ही में भारतीय रिजर्व बैंक ने क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (RRBs) को समायोजन सुविधा (Liquidity Adjustment Facility- LAF) वसीमांत स्थायी सुविधा (Marginal Standing Facility- MSF) व्यवस्था का लाभ उठाने की अनुमति प्रदान की है और साथ ही कॉल या नोटिस मनी मार्केट की अनुमति प्रदान की है.
  • वर्तमान में, RRBs को RBI की चलनिधि व्यवस्थाओं तक पहुंच के साथ-साथ कॉल या नोटिस मनी मार्केट की सुविधा प्राप्त करने की अनुमति नहीं है.

उद्देश्य-

इस कदम का उद्देश्य इन ऋणदाताओं के लिए बेहतर तरलता प्रबंधन की सुविधा प्रदान करना और मुद्रा बाजार (money market) में उनकी भागीदारी का विस्तार करना है.

LAF-

LAF का उपयोग मौद्रिक नीति में किया जाता है, जो राज्य सरकार की प्रतिभूतियों सहित केंद्र सरकार की प्रतिभूतियों की संपार्श्विकता के आधार पर पुनर्खरीद समझौते (रेपो) {(repurchase agreement (repo)} के माध्यम से बैंकों को RBI से धन उधार लेने या रिवर्स रेपो (reverse repo) का उपयोग करके RBI को ऋण देने में सक्षम बनाता है.

MSF-

अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के लिए एक अत्यधिक अल्पकालिक उधार योजना है. RBI द्वारा सीमांत स्थायी सुविधा की शुरुआत इंटर-बैंक मार्केट में एक दिवसीय (overnight) उधार दरों में अस्थिरता को कम करने और वित्तीय प्रणाली में सहज मौद्रिक संचरण को सक्षम करने के लिए की गई थी. सामान्यतः MSF दर रेपो दर से अधिक होती है.

कॉल/नोटिस मनी मार्केट-

भारतीय मुद्रा बाजार के एक महत्वपूर्ण माग का निर्माण करता है. कॉल मनी मार्केट (मांग मुद्रा बाजार) के तहत एक दिन के आधार पर धन का लेनदेन किया जाता है जबकि नोटिस मनी मार्केट के तहत, 2 से 14 दिनों के बीच की अवधि के लिए धन का लेनदेन किया जाता है.

क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के बारे में-

  • RRBs वित्तीय संस्थान हैं, जो कृषि और अन्य ग्रामीण क्षेत्रकों के लिए पर्याप्त ऋण सुनिश्चित करते हैं.
  • इसका उद्देश्य में, व्यापार और उद्योग के विकास के लिए लघु, सीमांत और जनसंख्या के सामाजिक-आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए ऋण का संवितरण करना है.
  • RRBs को नरसिम्हम कार्यकारी समूह (वर्ष 1975) की अनुशंसाओं के आधार पर, और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक अधिनियम, 1976 (RRB Act, 1976) की विधि के तहत स्थापित किया गया था. इसमें केंद्र सरकार, संबंधित राज्य सरकार और प्रायोजक बैंक 50:15:55 के अनुपात में इक्विटी धारक हैं.

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

CMS-01 उपग्रह

  • यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) द्वारा PSLV-C50 के साथ प्रक्षेपित किया जाने वाला एकसंचार उपग्रह है।
  • CMS-01 को फ्रीक्वेंसी स्पेक्ट्रम के विस्तारित सी बैंड में सेवाएं प्रदान करने के लिए परिकल्पित किया गया है।
  • इसरो के अनुसार, यह भारतीय मुख्य भूमि, और अंडमान और निकोबार और लक्षद्वीप द्वीप समूह को कवर करेगा।
  • इस उपग्रह की कार्य-आयु सात वर्ष से अधिक होने की उम्मीद है।
  • CMS-01 भारत का 42 वां संचार उपग्रह है और PSLV का 52 वां मिशन है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow