Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

विशेष राज्य का दर्जा

G.S. Paper-II

संदर्भ-

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई.एस. जगन मोहन रेड्डी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भेंट के दौरान आंध्रप्रदेश राज्य से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की और राज्य के लिए विशेष राज्य के दर्जे की माँग रखी.

विशेष राज्य का दर्जा क्या होता है ?

विशेष राज्य का दर्जा मिलने के बाद राज्यों को कई तरह के लाभ होते हैं. इसमें सबसे महत्त्वपूर्ण हैकेन्द्रीय सहायता में बढ़ोतरी. केंद्र अपने अनेक योजनाओं को लागू करने के ऐवज में राज्यों को वित्तीय मदद देते हैं.

कब किसे मिला दर्जा?

  • 1969-1974 – चौथी पंचवर्षीय योजना के दौरान पहली बार असम, जम्मू-कश्मीर और नागालैंड.
  • 1974-1979 – पाँचवी पंचवर्षीय योजना के दौरान हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, सिक्किम और त्रिपुरा.
  • 1990 के वार्षिक योजना में अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम जुड़े.
  • 2001 को उत्तराखंड को यह दर्जा मिला.

शर्तें (CONDITIONS)-

  1. किसी भी राज्य को विशेष राज्य का दर्जा देने के लिए विशेष शर्तें निर्धारित की गई हैं. जैसे –
  2. वह राज्य दुर्गम इलाकों वाला पर्वतीय भूभाग हो.
  3. राज्य का कोई हिस्सा अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगा हो.
  4. प्रति व्यक्ति आय और गैर कर राजस्व काफी कम हो.
  5. आधारभूत ढाँचे का अभाव हो.
  6. जनजातीय आबादी की बहुलता हो और आबादी का घनत्व काफी कम हो.
  7. इनके अलावा राज्य का पिछड़ापन, भौगोलिक स्थिति, सामाजिक समस्याएँ भी इसका आधार हैं.

संविधान में प्रावधान-

भारतीय संविधान में  किसी भी राज्य के लिए विशेष श्रेणी के राज्य का कोई प्रावधान नहीं है. लेकिन पहले का योजना आयोग और राष्ट्रीय विकास परिषद् ने ये मानते हुए कि देश के कुछ इलाके तुलनात्मक रूप से दूसरे इलाकों से पिछड़े हुए हैं, उन्हें अनुच्छेद 371 के तहत विशेष केन्द्रीय सहायता देने का प्रावधान किया था. इसके आधार पर आगे चलकर कुछ राज्यों को विशेष राज्य का दर्जा दिया गया.

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

हूती

(Houthi)

अमेरिका द्वारा हूती (Houthi) को ‘आतंकी संगठन’ का दर्जा दिए जाने की समीक्षा की जाएगी।

  1. हूतीकी स्थापना शिया संप्रदाय के जैदी विद्वानों द्वारा की गयी थी, जो हजार वर्षों से अधिक समय से यमन के निवासी हैं और उन्होंने कई शताब्दियों तक देश पर शासन भी किया था।
  2. लगभग एक दशक पहले सऊदी समर्थित सरकार के खिलाफ इनका विद्रोह शुरू हुआ था।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow