Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष – NIIF

G.S. Paper-III

संदर्भ:

हाल ही में, कनाडा के PSP इन्वेस्टमेंट, अमेरिका इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कारपोरेशन (US International DFC) तथा घरेलू निजी क्षेत्र की ऋण-प्रदाता एक्सिस बैंक द्वारा राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष‘ (National Investment and Infrastructure Fund- NIIF) के मास्टर फंड में 107 मिलियन डॉलर का निवेश किया गया है।

इन तीनों निवेशकों द्वारा नई प्रतिबद्धताओं के बाद, ‘मास्टर फंड’ की कुल राशि 2.34 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गई है।

राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष (NIIF) के बारे में:

सरकार द्वारा वर्ष 2015  में व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य ग्रीनफ़ील्ड, ब्राउनफ़ील्ड और रुकी हुई अवसंरचना परियोजनाओं के वित्तपोषण हेतु निवेश साधन के रूप में 40,000 करोड़ रूपये के राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष (NIIF) की स्थापना की गयी थी।

  1. राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष के अधिदेश में, भारत में ऊर्जा, परिवहन, आवास, जल, अपशिष्ट प्रबंधन और अन्य बुनियादी ढाँचे से संबंधित क्षेत्रों में निवेश किया जाना शामिल है।
  2. वर्तमान में, NIIF द्वारा तीन निधियों का, अपने विशिष्ट निवेश अधिदेश के तहत प्रबंधन किया जाता है। ये निधियां, वैकल्पिक निवेश कोष (Alternate Investment Fund)के रूप में भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) के तहत पंजीकृत हैं।

राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष (NIIF) निवेशक:

  1. अक्टूबर 2017 में, NIIF द्वाराअबू धाबी इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी (ADIA) के साथ 1 बिलियन अमरीकी डालर के पहले निवेश समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। ADIA, राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष के मास्टर फंड में निवेश करने वाला पहला अंतर्राष्ट्रीय निवेशक था।
  2. NIIF में भारत सरकार का हिस्सा 49% है। घरेलू निवेशक जैसे ICICI बैंक, HDFC बैंक, एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा लाइफ, राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष में निवेशक करने वाले अन्य उल्लेखनीय निवेशक हैं।
  3. एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंकद्वारा जून 2018 में 200 मिलियन अमरीकी डालर का निवेश करने की घोषणा की गयी।

राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष की ‘तीन निधियां’ निम्नलिखित हैं:

  1. मास्टर फंड (Master Fund):यह मुख्य रूप से प्रमुख अवसंरचना क्षेत्रों जैसे सड़क, बंदरगाह, वायुयान, बिजली आदि की परिचालन परिसंपत्तियों में निवेश करने के उद्देश्य से एक अवसंरचना निधि है।
  2. निधियों की निधि (Fund of Funds):इसका भारत में अवसंरचना एवं संबंधित क्षेत्रों में अच्छे ट्रैक रिकॉर्ड वाले निधि प्रबंधकों द्वारा प्रबंधन किया जाता है। इसके तहत मुख्यतः ग्रीन इन्फ्रास्ट्रक्चर, मिड-इनकम और अफोर्डेबल हाउसिंग, इन्फ्रास्ट्रक्चर सेवाएं और संबद्ध क्षेत्रों पर ध्यान दिया जाता है।
  3. सामरिक निवेश कोष (Strategic Investment Fund):यह भारत में SEBI के तहत एक वैकल्पिक निवेश कोष-II के रूप में पंजीकृत है। इसका उद्देश्य बड़े पैमाने पर इक्विटी और इक्विटी-लिंक्ड इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करना है। इसके तहत मुख्य अवसंरचना क्षेत्र में ग्रीन फील्ड और ब्राउन फील्ड निवेश पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

ONGC द्वारा बंगाल बेसिन में उत्पादन की शुरूआत

  1. तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ONGC) लिमिटेड द्वारा हाल ही में, 24 परगना जिले में स्थित बंगाल बेसिन केअसोकनगर –1 कुएं से कच्चे तेल का उत्पादन शुरू किया गया है।
  2. इसके साथ ही बंगाल बेसिन भारत का तेल एवं गैस का उत्पादन करने वाला आठवां बेसिन बन गया है।अन्य उत्पादक बेसिन, कृष्णा-गोदावरी (KG), मुंबई ऑफशोर, असम शेल्फ, राजस्थान, कावेरी, असम-अराकान फोल्ड बेल्ट और काम्बे हैं।
  3. भारत में 26 अवसादी बेसिन हैं, जो कुल 4 मिलियन वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में विस्तृत हैं। इनमें से 16 स्थलीय बेसिन हैं, 7 बेसिन स्थलीय और सागरीय क्षेत्रों, दोनों में अवस्थित हैं और तीन पूर्णतयः अपतटीय बेसिन हैं।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow