Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

भारत द्वारा श्रीलंका के साथ रक्षा-संबंधों की पुनःपुष्टि

G.S. Paper-II

संदर्भ:

हाल ही में, भारतीय वायु सेना प्रमुख और 23 भारतीय विमानों ने कोलंबो में श्रीलंका वायु सेना (SLAF) की 70 वीं वर्षगांठ के अवसर तीन दिवसीय कार्यक्रम में भाग लिया, इसके साथ ही भारत ने श्रीलंका के साथ अपने मजबूत रक्षा-सहयोग संबंधों को साबित किया है।

भारतीय वायुसेना ने आखिरी बार, ‘श्रीलंका वायु सेना’ की 50 वीं वर्षगांठ के अवसर पर वर्ष 2001 में इस तरह के आयोजन में भाग लिया था।

भारत-श्रीलंका रक्षा संबंध: ऐतिहासिक पृष्ठभूमि-

  1. श्रीलंका में तीन दशक से अधिक समय तक चले गृहयुद्ध के दौरान, भारत ने राजनीतिक रूप से और कई बार अपनी सेना का उपयोग करते हुए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
  2. उस दौरान, विवादास्पद भारतीय शांति रक्षा बल (IPKF) श्रीलंका में मौजूद रहे।
  3. भारत द्वारा वर्ष 1987 में ‘ऑपरेशन पूमलाई’ (Operation Poomala)भी शुरू किया गया, इसमें अभियान में भारतीय वायु सेना द्वारा जाफना में खाद्य सामग्री गिराई गई थी।
  4. श्रीलंका में युद्ध-समाप्ति के बाद से, भारत-श्रीलंका सैन्य साझेदारी का अधिकतर ध्यान प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण पर रहा है। प्रतिवर्ष लगभग 1,200 श्रीलंकाई सैन्य कर्मियों को भारत द्वारा प्रशिक्षित किया जाता है।
  5. वर्ष 2020 में, द्वीप के पूर्वी तट पर एक तेल टैंकर में आग लग जाने पर भारतीय नौसेना और तटरक्षक बल के जवानों ने एक महत्वपूर्ण अग्निशमन अभियान में श्रीलंकाई नौसेना की मदद की गई थी।

श्रीलंका का भू-राजनीतिक महत्व:

हिंद महासागर क्षेत्र में श्रीलंका की द्वीपीय देश के रूप में अवस्थिति, कई प्रमुख शक्तियों के लिए रणनीतिक भू राजनीतिक महत्व रखती है।

  1. वर्ष 1948 का ब्रिटिश रक्षा और विदेश मामले समझौता, तथा वर्ष 1962 में पूर्व सोवियत संघ द्वारा किया गया समुद्रीय समझौता, श्रीलंका की रणनीतिक अवस्थिति में पश्चिमी अभिरुचि को व्यक्त करने वाले कुछ उदाहरण हैं।
  2. वर्ष 2015 के बाद से, श्रीलंका पोर्ट सिटी परियोजनाके लिए और चीनी वित्त पोषित बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को जारी रखने के लिए चीन पर काफी निर्भर है।
  3. चीन की ‘स्ट्रिंग ऑफ पर्ल’ रणनीति, का उद्देश्य हिंद महासागर में प्रभुत्व स्थापित करने के लिए भारत को घेरना है।

श्रीलंका की अवस्थिति, वाणिज्यिक और औद्योगिक दोनों उद्देश्यों पूरे कर सकती है और इसका उपयोग सैन्य अड्डे के रूप में भी किया जा सकता है।

  1. श्रीलंका का कोलंबो पत्तन विश्व का 25 वां सबसे व्यस्त कंटेनर पोर्ट है, और त्रिंकोमाली (Trincomalee) में गहरे पानी का प्राकृतिक बंदरगाह दुनिया का विश्व सबसे बड़ा प्राकृतिक बंदरगाह है।
  2. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, पत्तन नगर त्रिंकोमाली, अमेरिका के पूर्वी बेड़े और ब्रिटिश रॉयल नेवी का प्रमुख सैन्य बेस था।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

व्हेल शार्क

(Whale shark)

  1. अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ (IUCN) के अनुसार, ‘व्हेल शार्क’ मछलियों की सबसे बड़ी जीवित प्रजातिहै और यह वर्तमान में ‘संकटग्रस्त’ श्रेणी के तहत सूचीबद्ध है।
  2. भारत में इसे ‘वन्यजीव संरक्षण अधिनियम’के तहत संरक्षित किया गया है।
  3. व्हेल शार्क की आयु लगभग 130 वर्ष होती है और इसके शरीर पर डॉट्स का एक अनूठा पैटर्न होता है।
  4. इसकी लंबाई 10 मीटर तक हो सकती है और इसका वजन लगभग 20 टन होता है।
  5. आवास:व्हेल शार्क, विश्व के सभी उष्णकटिबंधीय महासागरों में पाए जाती हैं। भारत के समुद्री तटों के किनारे भी व्हेल शार्क पाई जाती हैं।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow