Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

भारत द्वारा ज्यादा राष्ट्रों को तटीय रडार नेटवर्क में लाने का प्रयास

G.S. Paper-III

संदर्भ:

भारत द्वारा निम्नलिखित उपक्रमों के विस्तार की योजना बनाई जा रही है:

  1. खुले सागरों में खतरों की समयोचित निगरानी करने में सक्षम तटीय राडार श्रृंखला नेटवर्क का विस्तार।
  2. हिंद महासागर के तटवर्ती राज्यों में क्षमता निर्माण के लिए सहायता।

इस संबंध में भारत द्वारा पिछले और भविष्य में किये जाने वाले प्रयास:

  1. मॉरीशस, सेशेल्स और श्रीलंका को पहले ही देश के तटीय रडार श्रृंखला नेटवर्क में एकीकृत किया जा चुका है।
  2. मालदीव, म्यांमार और बांग्लादेश में तटीय राडार स्टेशन स्थापित करने की योजना पर कार्य किया जा रहा है।

भारत में सागरीय डेटा संलयन- संस्थागत और संरचनात्मक प्रयास:

  1. भारतीय नौसेना कासूचना प्रबंधन और विश्लेषण केंद्र (Information Management and Analysis Centre– IMAC) सागरीय डेटा संलयन के लिए नोडल एजेंसी है। गुरुग्राम में स्थित, IMAC की स्थापना 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमलों के बाद की गयी थी।
  2. खुले सागरों में यातायात से संबंधित सूचनाओं के आदान-प्रदान के भाग के रूप में, सरकार द्वारा नौसेना को36 देशों और तीन बहुपक्षीय संगठनों के साथव्हाइट शिपिंग समझौते’ (white shipping agreements) करने के लिए अधिकृत किया गया है। अब तक 22 देशों और एक बहुपक्षीय संगठन के साथ समझौते संपन्न किए जा चुके हैं।
  3. समुद्री क्षेत्र में जागरूकता को बढ़ावा देने वालेहिंद महासागर क्षेत्रहेतु सूचना संलयन केंद्र (Information Fusion Centre for Indian Ocean Region: IFC-IOR) में शीघ्र ही तीन अन्य अंतर्राष्ट्रीय संपर्क अधिकारियों (International Liaison Officers– ILO) के शामिल होने की उम्मीद है। फ्रांस, जापान और अमेरिका के अंतर्राष्ट्रीय संपर्क अधिकारी (ILO)  IFC-IOR में शामिल हो चुके हैं।
  4. देश के समुद्र तटों पर 46 तटीय राडार स्टेशन स्थापित किए गए हैं। वर्तमान में जारी परियोजना के दूसरे चरण के तहत, तटरक्षक सेना द्वारा 38 स्थैतिक रडार स्टेशन और चार मोबाइल रडार स्टेशन स्थापित किए जा रहे हैं और पूरा होने के अंतिम चरण में हैं।

हिंद महासागर क्षेत्र हेतु सूचना संलयन केंद्र (IFC-IOR)-

IFC-IOR को भारतीय नौसेना द्वारा दिसंबर 2018 को हरियाणा के गुरुग्राम में सूचना प्रबंधन और विश्लेषण केंद्र (IMAC) में स्थापित किया गया था। इसका उद्देश्य हिन्द महासागर क्षेत्र में विभिन्न देशों के साथ समुद्री सुरक्षा के लिए कार्य करना है।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

हिमालयन ट्रिलियम

  1. हाल ही में, हिमालय में पायी जाने वाली एक आम जड़ी बूटीहिमालयन ट्रिलियम को आईसीयूएन (IUCN) द्वारासंकटग्रस्त’ (endangered) घोषित किया गया है।
  2. यह जड़ी-बूटी मानवों के लिए विभिन्न रूपों में उपयोगी है, अतः इसका अत्याधिक दोहन किया जाता है।
  3. यह 2400 मीटर से 4000 मीटर की ऊँचाई पर हिमालय के समशीतोष्ण और उप-अल्पाइन क्षेत्र में उगती है।
  4. यह बूटी भारत, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, चीन, नेपाल, भूटान में पायी जाती है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow