Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

ब्रेक्सिट समझौते के बाद ब्रिटेन और यूरोपीय संघ

G.S. Paper-II

संदर्भ:

आखिरकार ब्रिटेन और यूरोपीय संघ द्वारा, भविष्य के संबंधों को परिभाषित करने वाले एक समझौते पर सहमति व्यक्त की गयी है।

पृष्ठभूमि:

31 जनवरी को ब्रिटेन यूरोपीय संघ से अलग हो गया था, उस समय से, दोनों पक्षों में नए नियमों के बारे में वार्ता जारी थी।

समझौते के बारे में प्रमुख तथ्य:

इस समझौते में ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के मध्य एक साथ रहने, कार्यों और व्यापार के संबंध में नए नियम तय किये गए हैं।

  1. सीमा पार करने पर एक-दूसरे की वस्तुओं पर कोई कर / सीमा-शुल्क (Tariffs) नहीं लगाया जाएगा।
  2. कारोबार की जाने वाली चीजों की मात्रा पर कोई सीमा / कोटा (Quota) नहीं लगाई जाएगी।
  3. सीमाशुल्क:विश्व की सबसे बड़ी बाजारों में से एक (ब्रिटेन और यूरोपीय संघ की बाजार) तक टैरिफ-मुक्त और कोटा-मुक्त पहुंच, ब्रेक्सिट समझौते का प्रमुख आधार है और यह यूरोपीय संघ और कनाडा या जापान के मध्य समझौतों से बढ़कर है।
  4. व्यापार:विश्वसनीय व्यापारी कार्यक्रम, पारस्परिक रूप से मान्य होंगे। इसका अर्थ है कि ब्रिटेन के उत्पादकों को ब्रिटेन और यूरोपीय संघ, दोनों के मानकों का पालन करना होगा।
  5. व्यावसायिक शर्तें:डॉक्टर, नर्स, आर्किटेक्ट, दंत चिकित्सक, फार्मासिस्ट, डॉक्टर, इंजीनियर के लिए स्वचालित रूप से मान्यता प्राप्त नहीं होगी। इनके लिए, प्रैक्टिस करने हेतु इच्छित सदस्य देश से मान्यता प्राप्त करनी होगी।
  6. आवागमनआवाजाही की स्वतंत्रता:ब्रिटेन के नागरिकों को यूरोपीय संघ में काम करने, अध्ययन, व्यवसाय शुरू करने अथवा निवास की स्वतंत्रता नहीं होगी। 90 दिनों से अधिक अवधि तक ठहरने के लिए वीजा की आवश्यकता होगी।
  7. मत्स्यन: ब्रिटेन, सामूहिक मत्स्यन नीति से अलग हो जाएगा।

समझौता होने में देरी का कारण:

क्योंकि इस समझौते में काफी कुछ दांव पर लगा था।

यूरोपीय संघ, ब्रिटेन का सबसे करीबी और सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है, वर्ष 2019 में ब्रिटेन सरकार के अनुसार- यह समझौता 668 बिलियन  पौंड के व्यापार को कवर करता है।

जब ब्रिटेन, यूरोपीय संघ में शामिल था, तो कंपनियां, यूरोपीय संघ की सीमाओं के पार, बिना किसी टैरिफ के माल खरीद और बेच सकती थीं।

  1. बिना इस समझौते के, व्यवसायों को सीमा-शुल्कों का भुगतान करना पड़ता, जिससे उनकी लागत में काफी वृद्धि होती।
  2. कोई समझौते नहीं होने का मतलब होता, ज्यादा सीमा-जांच। जिससे उत्पादों के परिवहन में देरी होने का भय रहता।

आगामी स्थिति:

  1. हालांकि, दोनों पक्षों द्वारा समझौते पर सहमति हो गई है, फिर भी इसे कानून के रूप में लागू किए जाने की आवश्यकता है।
  2. इसके लिए इस समझौते को ब्रिटेन और यूरोपीय संसदों, दोनों के द्वारा पारित किया जाना चाहिए।

यूरोपीय संघ और ब्रेक्सिट-

  1. यूरोपीय संघ में 27 यूरोपीय देश सम्मिलित हैं।
  2. यूरोपीय संघ के नागरिक अन्य यूरोपीय संघ के देशों में रहने और काम करने के लिए स्वतंत्र हैं, और इन देशों की फर्में, बिना किसी रूकावट या अतिरिक्त करों के, एक-दूसरे का सामान खरीद और बेच सकती हैं।
  3. ब्रिटेन, यूरोपीय संघ से अलग होने वाला पहला देश है, अतः इसे ब्रेक्सिट (Brexit) के रूप में जाना जाता है।
  4. ‘ब्रिटेन को यूरोपीय संघ में रहना चाहिए अथवा नहीं’, इसका निश्चय करने के लिए ब्रिटेन में जून 2016 में एक जनमत संग्रह कराया गया था, जिसमे यूरोपीय संघ से अलग होने के पक्ष में 52% मत पड़े जबकि शामिल रहने के पक्ष में 48% लोगों ने मत दिया था। जनमत संग्रह में बहुमत प्राप्त होने के पश्चात ब्रेक्सिट की प्रक्रिया शुरू हुई।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

सुशासन दिवस

  1. देश में प्रतिवर्ष 25 दिसंबर कोसुशासन दिवस मनाया जाता है।
  2. इस दिवस का आयोजन भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती के रूप में भी किया जाता है।
  3. इसका उद्देश्य देश के नागरिकों और छात्रों को सरकार द्वारा निभाई जाने वाली जिम्मेदारियों और कर्तव्यों के बारे में जानकारी देना है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow