Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

प्रवासी भारतीय नागरिक (OCI)

G.S. Paper-II

संदर्भ:

हाल ही में, कर्नाटक के उच्च न्यायालय ने फैसला दिया है कि प्रवासी भारतीय नागरिक (Overseas Citizens of India- OCI) श्रेणी के अंतर्गत आने वाले छात्रों को व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश लेने के लिए इन्हें ‘भारत का नागरिक’ माना जाएगा।

पृष्ठभूमि:

हाल ही में, कर्नाटक राज्य सरकार द्वारा अप्रैल 2019 के एकल-न्यायाधीश के फैसले के खिलाफ अपील दायर की गई थी, जिसमे अदालत ने व्यावसायिक पाठ्यक्रमों में OCI छात्रों को नियमित कोटे की सीटों पर प्रवेश लेने की अनुमति दी थी। राज्य सरकार, प्रवासी छात्रों को केवल NRI कोटे के तहत प्रवेश देने के पक्ष में है।

‘प्रवासी भारतीय नागरिक’ (OCI) कार्डधारक कौन होते हैं?

  1. भारत सरकार द्वारा अगस्त, 2005 में नागरिकता अधिनियम, 1955 में संशोधन करते हुएप्रवासी भारतीय नागरिकता (Overseas Citizenship of India–OCI) योजना आरंभ की गई थी।
  2. भारत सरकार द्वारा 09 जनवरी 2015 कोभारतीय मूल के नागरिक (PIO) कार्ड को समाप्त करते हुए इसे प्रवासी भारतीय नागरिक’ (OCI) कार्ड के साथ संयुक्त कर दिया गया।

पात्रता:

भारत सरकार द्वारा निम्नलिखित श्रेणियों के विदेशी नागरिकों को प्रवासी भारतीय नागरिकता कार्ड हेतु आवेदन करने की अनुमति दी गयी है:

  1. जो दूसरे देश का नागरिक है, किन्तु संविधान के लागू होने के समय, 26 जनवरी 1950 या उसके पश्चात् किसी समय भारत का नागरिक थे; या
  2. जो दूसरे देश का नागरिक है, किन्तु 26 जनवरी 1950 को भारत का नागरिक होने के लिए पात्र थे; या
  3. जो दूसरे देश का नागरिक है, किन्तु ऐसे राज्यक्षेत्र से संबद्ध थे, जो 15 अगस्त, 1947 के पश्चात् भारत का भाग बन गया था; या
  4. जो किसी ऐसे नागरिक का पुत्र/पुत्री या पौत्र/पौत्री, दौहित्र/दौहित्री या प्रपौत्र/प्रपौत्री, प्रदौहित्र/प्रदौहित्री है; या
  5. किसी ऐसे व्यक्ति को, जो खंड (क) में वर्णित किसी व्यक्ति का अप्राप्तवय पुत्र/पुत्री है।

अपवाद:

  1. ‘प्रवासी भारतीय नागरिक’ (OCI) कार्ड के लिए आवेदन करने वाले व्यक्ति के पास किसी अन्य देश का वैध पासपोर्ट होना अनिवार्य है।
  2. ऐसे व्यक्ति जिनके पास किसी अन्य देश की नागरिकता नहीं है, वे ‘प्रवासी भारतीय नागरिक’ का दर्जा प्राप्त करने के पात्र नहीं हैं।
  3. ऐसे व्यक्ति जिनके माता-पिता या दादा-दादी पाकिस्तान और बांग्लादेश के नागरिक हैं, वे प्रवासी भारतीय नागरिक’ कार्ड हेतु आवेदन करने के पात्र नहीं हैं।

ओसीआई कार्डधारकों के लिए लाभ:

  1. भारत आने के लिए जीवनपर्यंत वीजा।
  2. प्रवास के दौरान विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण अधिकारी (FRRO) या विदेशी पंजीकरण अधिकारी (FRO) के पास पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं होती है।
  3. अनिवासी भारतीयों (NRI) को मिलने वाली आर्थिक, वित्तीय, शैक्षिक, सुविधा उपलब्ध होती है, किंतु कृषि, संपत्ति या बागान खरीदने की छूट नहीं होती है।
  4. भारतीय बच्चों के अंतर-देशीय गोद लेने के संबंध में अनिवासी भारतीयों के समान व्यवहार।
  5. राष्ट्रीय स्मारकों में प्रवेश शुल्क, डॉक्टरों, दंत चिकित्सकों, नर्सों, अधिवक्ताओं, वास्तुकारों, चार्टर्ड एकाउंटेंट और फार्मासिस्ट जैसे व्यवसाय अपनाने पर अनिवासी भारतीयों के समान व्यवहार।
  6. अखिल भारतीय प्री-मेडिकल परीक्षाओं एवं इस तरह की अन्य परीक्षाओं में भाग लेने के लिए अनिवासी भारतीयों समान व्यवहार।
  7. भारतीय घरेलू क्षेत्रों में वायु-यातायात के मामलों में भारतीय नागरिकों के समान व्यवहार।
  8. भारत के राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभयारण्यों में प्रवेश हेतु भारतीयों के लिए समान प्रवेश शुल्क।
  9. प्रवासी भारतीय नागरिक (OCI) बुकलेट का उपयोग सेवाओं का लाभ उठाने के लिए पहचान के रूप में किया जा सकता है। OCI कार्ड को स्थानीय पता और एक शपथपत्र लगाकर आवासीय प्रमाण के रूप में संलग्न किया जा सकता है।

ओसीआई कार्ड धारकों पर प्रतिबंध:

  1. वोट देने का अधिकार नहीं है।
  2. किसी भी सार्वजनिक सेवा / सरकारी नौकरी के लिए आवेदन करने के पात्र नहीं है।
  3. प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, उप-प्रधान, सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश और उच्च न्यायालय, संसद के सदस्य या राज्य विधान सभा या परिषद के सदस्य – के पद पर नियुक्त का अधिकार नहीं होता है।
  4. कृषि संपत्ति को नहीं खरीद सकते हैं।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

हिमालयन सीरो

  1. इसे हिमालय के ठंडे रेगिस्तानी क्षेत्र (हिमाचल प्रदेश) में पहली बार देखा गया।
  2. हिमालयन सीरो एक बकरी, एक गधा, एक गाय और एक सुअर के बीच एक संकर प्रजाति जैसा दिखता है।
  3. यह एक बड़े सिर, मोटी गर्दन, खच्चर जैसे कान, और काले बालों वाला मध्यम आकार का स्तनपायी है।
  4. IUCN की रेड लिस्टमेंअसुरक्षित (Vulnerable) के रूप में सूचीबद्ध है।
  5. वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 की अनुसूची– I के तहत सूचीबद्ध है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow