Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

नेट न्यूट्रिलिटी

25th September, 2020

G.S. Paper-II (National)

  • नेट न्यूट्रिलिटी(Net Neutrality) का अर्थ है, कि इसमें सरकारें और इंटरनेट सेवा प्रदाता, इंटरनेट पर सभी डेटा के लिए एक समान व्यवहार करते हैं तथा उपभोक्ताओं से उच्च-गुणवत्ता युक्त सेवा के लिए अथवा कुछ वेबसाइटों को प्राथमिकता देने के लिए भिन्न शुल्क नहीं देना पड़ता है।
  • नेटवर्क न्यूट्रैलिटी के तहत, सभीइंटरनेट सेवा प्रदाताओं (ISPs) को पूरे ट्रैफ़िक के लिए समान स्तर की डेटा पहुँच तथा गति प्रदान करना आवश्यक होता है, तथा इसके अलावा, किसी सेवा अथवा वेबसाइट के लिए ट्रैफ़िक को ब्लॉक या कम नहीं किया जा सकता है।

भारत में नेट न्यूट्रैलिटी का विनियमन-

  • भारतीय दूरसंचार और नियामक प्राधिकरण (Telecom and Regulatory Authority of India- TRAI) द्वारा डेटा सेवाओं के लिए भेदभाव पूर्ण शुल्कों का निषेध नियम(Prohibition of Discriminatory Tariffs for Data Services Regulations)-2016 किये गए है।
  • इन नियमों के तहत, टेलीकॉम सेवा प्रदाताओं को ऑनलाइन सेवाओं तक पहुँच प्रदान करने के लिए उपभोक्ताओं से अलग-अलग शुल्क लेने के लिए प्रतिबंधित किया गया है।

चर्चा का कारण-

हाल ही में, TRAI द्वारा एक बहुहितधारक निकाय (Multi-Stakeholder Body- MSB) के गठन का सुझाव दिया गया है। इसका उद्देश्य देश में इंटरनेट सेवा प्रदाताओं द्वारा नेट न्यूट्रैलिटी के सिद्धांतों के पालन को सुनिश्चित करना है।

प्रस्तावित निकाय-

संरचना-

MSB, एक ऐसा फोरम होना चाहिए, जिसमें सभी दूरसंचार और इंटरनेट सेवा प्रदाताओं, सामग्री प्रदाताओं, शैक्षणिक और तकनीकी समुदाय के शोधकर्ताओं और साथ ही सरकार के प्रतिनिधि और अन्य हितधारक सम्मिलित होंगे।

कार्य

  • डेटा ट्रैफिक प्रबंधन प्रणालियों के लिए अपनाई जाने वाली सर्वोत्तम विधियों हेतु तकनीकी मानकों और कार्यप्रणाली की निगरानी में दूरसंचार विभाग (DoT) की सहायता करना।
  • नेट न्यूट्रैलिटी पर सर्वोत्तम विधियों के प्रवर्तन तथा शिकायतों से निपटने में DoT की सहायता करना।

पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम व नियंत्रण) प्राधिकरण

(Environment Pollution (Prevention and Control) Authority)

G.S. Paper-III (Environment)

चर्चा का कारण-

  • हाल ही में, EPCA द्वारा पंजाब और हरियाणा के मुख्य सचिवों को पत्र द्वारा सूचित किया गया है, कि संबंधित राज्यों में फसल अवशिष्टों को समयपूर्व जलाए जाने का कार्य किया का रहा है, तथा EPCA ने इस विषय को ‘तत्काल’ हल किये जाने का आग्रह किया है।
  • पत्र में कहा गया है, कि हवा की दिशा के कारण अगले तीन दिनों तक दिल्ली में फसल अवशिष्ट दहन (Stubble Burning) का कम प्रभाव पड़ेगा।

EPCA की संरचना-

  • पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (Environment Pollution Control Authority- EPCA) उच्चत्तम न्यायालय के आदेश द्वारा अधिसूचित एक निकायहै, जो राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु प्रदूषण समस्या समाधान हेतु उपाय सुझाने का कार्य करता है।
  • EPCA को वर्ष 1998 मेंपर्यावरण संरक्षण अधिनियम, 1986 के तहत पर्यावरण मंत्रालय द्वारा अधिसूचित किया गया था।
  • पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (EPCA) में अध्यक्ष के अतिरिक्त 14 सदस्य होते हैं, जिनमें राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली (NCT) के पर्यावरण सचिव, नई दिल्ली नगरपालिका परिषद के अध्यक्ष, NCT के परिवहन आयुक्त, दिल्ली के विभिन्न नगर निगमों के आयुक्त और IIT दिल्ली और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर सम्मिलित होते हैं।

शक्तियां-

पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु प्रदूषण से संबंधित समस्याओं पर स्वतः संज्ञान लेकर, अथवा पर्यावरण क्षेत्र में कार्य करने वाले किसी व्यक्ति, प्रतिनिधि निकाय या संगठन द्वारा की गई शिकायतों के आधार पर कार्यवाही कर सकता है।

कार्य-

  • राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में पर्यावरण की गुणवत्ता की रक्षा और सुधार और पर्यावरण प्रदूषण को रोकना और नियंत्रित करना।
  • प्रदूषण के स्तर के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (Graded Response Action Plan – GRAP) लागू करना।

पश्चिम घाट

G.S. Paper-III (Environment & Ecology)

  • पश्चिमी घाट पर्वतीय क्षेत्र भारत के पश्चिमी तट के सहारे लगभग 1600 किमी. की लंबाई में महाराष्ट्र गुजरात की सीमा से लेकर कुमारी अंतरीप तक विस्तृत है. यह दो भागों में बांटी जाती है – उत्तरी सहयाद्रिदक्षिणी सहयाद्रि.
  • इसे महाराष्ट्र व कर्नाटक में सहयाद्रि और केरल में सहय पर्वतम कहा जाता है.
  • पश्चिमी घाट पर्वत श्रेणी को यूनेस्को ने अपनीविश्व विरासत स्थल’ सूची में शामिल किया है और यह विश्व के ‘जैवविविधता हॉटस्पॉट्स’ में से एक है.

पश्चिमी घाट से संबंधित मुद्दे-

  • इन क्षेत्रों में भू-संचालन, भूमि उप-विभाजन, पार्श्व प्रसार (दरार) और मिट्टी की कटाई से भूस्खलन का अनवरत खतरा बना रहता है. इस प्रकार की स्थितियाँ केरल के त्रिशूर और कन्नूर ज़िलों में ज्यादा पाई जाती हैं.
  • अत्यधिक वर्षा, अवैज्ञानिक कृषि एवं निर्माण गतिविधियाँ भी भूस्खलन के लिए जिम्मेदार हैं.
  • पश्चिमी घाट के अधिकांश ढलानों का प्रयोग फसलों को उगाने के लिए किया जाता है जिससे कृषि के दौरान प्राकृतिक जल निकासी प्रणालियां अवरुद्ध हो जाती हैं जो भूस्खलन की प्रायिकता में वृद्धि लाते हैं.
  • पश्चिमी घाट की प्रमुख पारिस्थितिकीय समस्याओं में जनसंख्या और उद्योगों का दबाव सम्मिलित है.
  • पश्चिमी घाट में होने वाली पर्यटन गतिविधियों के चलते भी इस क्षेत्र पर और यहाँ की वनस्पति पर दबाव पड़ा है.
  • नदी घाटी परियोजनाओं के अंतर्गत वन भूमि का डूबना और वन भूमि पर अतिक्रमण भी एक नवीन समस्या है.
  • पश्चिमी घाट की जैव विविधता के ह्रास की बड़ी वजह खनन कार्य है.
  • चाय, कॉफी, रबड़, यूकेलिप्टस की एक फसलीय कृषि व्यवस्था इस क्षेत्र की जैव विविधता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रही है.
  • रेल और सड़क जैसी बुनियादी ढाँचा परियोजनाएँ भी इस क्षेत्र की पारिस्थितिकी पर दबाव बना रही हैं.
  • भू-क्षरण और भू-स्खलन जैसे प्राकृतिक तथा मानवीय कारणों से भी पश्चिमी घाट की जैव विविधता प्रभावित हुई है.
  • तापीय ऊर्जा संयंत्रों के प्रदूषण के चलते भी जैव विविधता प्रभावित हो रही है.
  • पश्चिमी घाट की अधिकांश नदियाँ खड़े ढलानों से उतरकर तेज गति से बहती हैं जिसके फलस्वरूप वे पुराने बांधों को सरलता से तोड़ देती हैं साथ ही वनों की कटाई के पश्चात् कमज़ोर हुई ज़मीन को आसानी से काट भी देती हैं.
  • पुराने बांधों की समय पर मरम्मत न होना सदैव बाढ़ को आमंत्रित करता है.

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

योंगल ब्लू होल

(Yongle Blue Hole -YBH)

  • दक्षिणी चीन सागर के नीचे एक विशाल छिद्र है जिसके अन्दर 8,000 वर्ष से अधिक पुराना कार्बन अटका पड़ा है.
  • यह छिद्र अभी तक ज्ञात सबसे गहरा समुद्री गुफा है जो दक्षिणी चीन सागर में स्थित खीसा द्वीप समूह (Xisha Islands) में स्थित है.
  • इसकी गहराई मोटा-मोटी 300 मीटर है.
  • इसका पानी समुद्र के आस-पास के पानी से अलग-थलग है और इसमें वृष्टि से बहुत थोड़ा जल पहुँचता है. अतः ऑक्सीजन रहित समुद्री पारिस्थितिकी के रसायनशास्त्र के अध्ययन के लिए यह एक अच्छा स्थल है.

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow