Online Portal Download Mobile App हिंदी ACE +91 9415011892 / 9415011893

नीति आयोग का ‘भारत नवाचार सूचकांक’

G.S. Paper-III

संदर्भ:

हाल ही में, नीति आयोग द्वारा भारत नवाचार सूचकांक’ (India Innovation Index) का दूसरा संस्करण जारी किया गया है।

सूचकांक में विभिन्न राज्यों का प्रदर्शन:

  1. कर्नाटक ने सूचकांक में लगातार दूसरे वर्षशीर्ष नवप्रवर्तनशील राज्य का स्थान हासिल किया है।
  2. तमिलनाडु को पीछे छोड़ते हुए महाराष्ट्र ने दूसरा स्थान हासिल किया है।
  3. तेलंगाना और केरल को क्रमशः चौथा एवं पांचवा स्थान प्रदान किया गया है। मिला
  4. सूचकांक में बिहार को सबसे निचला स्थान हासिल हुआ है।
  5. पर्वतीय और पूर्वोत्तर राज्यों की रैंकिंग में हिमाचल प्रदेश शीर्ष स्थान पर है, इसके बाद उत्तराखंड, मणिपुर और सिक्किम का स्थान है।
  6. छोटे अथवा शहर-राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में दिल्ली शीर्ष स्थान पर रही है, इसके बाद चंडीगढ़, दमन और दीव और पुदुचेरी का स्थान है।

‘भारत नवाचार सूचकांक’ के बारे में:

यह सूचकांक, नी‍ति आयोग द्वारा प्रतिस्पर्धात्मकता संस्थान (Institute for Competitiveness) के साथ मिलकर तैयार किया जाता है।

यह सूचकांक, भारत में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के नवाचार माहौल के निरंतर मूल्यांकन हेतु एक व्यापक रूपरेखा बनाने का प्रयास करता है और इसका तीन निम्नलिखित उद्देश्य हैं:

  1. सूचकांक स्कोर के आधार पर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की रैंकिंग करना।
  2. अवसरों और चुनौतियों की पहचान करना।
  3. नवाचार को बढ़ावा देने के लिये सरकारी नीतियों को मज़बूत करने में सहायता करना।

भारत नवाचार सूचकांक के औसत स्कोर की गणना दो आयामों– सक्षमकर्ता (Enablers) और प्रदर्शन (Performance) के आधार पर की जाती है।

  • सक्षमकर्तावे कारक होते हैं जो अभिनव क्षमताओं को रेखांकित करते हैं। इनको पाँच स्तंभों में वर्गीकृत किया गया है: (1) मानव पूंजी, (2) निवेश, (3) ज्ञान कार्यकर्त्ता, (4) व्यावसायिक वातावरण, और (5) सुरक्षा और कानूनी वातावरण।
  • प्रदर्शन आयाममें उन लाभों की गणना की जाती है जिनके लिए देश में प्रयुक्त लागत के बाद हासिल किया जाता है। इसको दो भागों में वर्गीकृत किया गया है: (6) ज्ञान उत्पादन (Knowledge Output) और (7) ज्ञान प्रसार (Knowledge Diffusion)।

इस सूचकांक का महत्व:

भारत के पास दुनिया में इनोवेशन लीडर बनने का एक अनूठा अवसर है। भारत में क्लस्टर आधारित नवाचार को प्रतिस्पर्धा के केंद्र बिंदु के रूप में विकसित किया जाना चाहिए।

  1. यह सूचकांक देश में नवाचार-वातावरण में सुधार करने हेतु एक महत्वपूर्ण शुरुआत है क्योंकि यह विचारों के इनपुट और आउटपुट दोनों घटकों पर केंद्रित है।
  2. यह सूचकांक, राज्यों के मध्य प्रदर्शन बेंचमार्क स्थापित करने और प्रतिस्पर्धी संघवाद को बढ़ावा देने के लिए एक अच्छा प्रयास है।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

हूती

(Houthi)

अमेरिका द्वारा हूती (Houthi) को ‘आतंकी संगठन’ का दर्जा दिए जाने की समीक्षा की जाएगी।

  1. हूतीकी स्थापना शिया संप्रदाय के जैदी विद्वानों द्वारा की गयी थी, जो हजार वर्षों से अधिक समय से यमन के निवासी हैं और उन्होंने कई शताब्दियों तक देश पर शासन भी किया था।
  2. लगभग एक दशक पहले सऊदी समर्थित सरकार के खिलाफ इनका विद्रोह शुरू हुआ था।

 

Latest News

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow