Online Portal | Download Mobile App | English Version | View Blog +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

डब्ल्यूएचओ भारत सहयोग रणनीति 2019-2023

10th October 2019

समाचार में क्यों? 

हाल ही में केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री ने “विश्व स्वास्थ्य संगठन भारत देश सहयोग रणनीति 2019-2023: परिवर्तन का समय {World Health Organisation (WHO) India Country Cooperation Strategy 2019–2023: A Time of Transition} को लॉन्च किया।

देश सहयोग रणनीति

  • देश सहयोग रणनीति (CCS), भारत सरकार के साथ WHO के कार्य करने के लिये रणनीतिक रोडमैप है।
  • इसका उद्देश्य स्वास्थ्य क्षेत्र के लक्ष्यों को प्राप्त करना, लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाना और स्वास्थ्य क्षेत्र में बदलाव लाना है।
  • WHO के साथ रणनीतिक सहयोग के लिये चार क्षेत्रों की पहचान की गई हैः
  • यूएचसी कार्यक्रम को तेज़ी से आगे बढ़ाना
  • स्वास्थ्य व आरोग्य को प्रोत्साहन देना
  • स्वास्थ्य आपात की स्थिति में लोगों की रक्षा करना
  • स्वास्थ्य क्षेत्र में भारत के वैश्विक नेतृत्व को मज़बूत करना।

आवश्यकता:

  • कई वर्षों से WHO जिन कार्यों को कर रहा है, CCS उसी आधार पर कार्य करता है।
  • यह डिजिटल स्वास्थ्य, गुणवत्तापूर्ण दवाओं तक लोगों की पहुँच, व्यापक हेपेटाइटिस नियंत्रण कार्यक्रम और आयुष्मान भारत जैसे पहलों के माध्यम से भारत को एक मॉडल के रूप में प्रदर्शित करने का अवसर प्रदान करता है।
  • इसके तहत स्वास्थ्य को जन-आंदोलन बनाने, बीमारियों से बचाव और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के तरीकों को अपनाए जाने की बात कही गई है जो जनस्वास्थ्य के क्षेत्र में भारत की प्रगति की दिशा में सकारात्मक कदम साबित हो सकता है।
  • CCS में वर्तमान की और उभरती हुई स्वास्थ्य ज़रूरतों व चुनौतियों को शामिल किया गया है, जैसे गैर-संक्रामक बीमारियाँ, एंटी माइक्रोबियल प्रतिरोध और वायु प्रदूषण आदि।

महत्त्वपूर्ण तथ्य:

  • CCS, WHO की 13वीं सामान्य कार्य योजना, सतत् विकास लक्ष्य (Sustainable Development Goal- SDG) और WHO दक्षिण-पूर्व एशिया की आठ प्रमुख प्राथमिकताओं के अनुरूप है।
  • यह रणनीतिक दस्तावेज़ भारत की राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति, 2017 पर आधारित है।
  • इसमें WHO द्वारा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय को समर्थन प्रदान करने के बारे में बताया गया है।

GEMINI

समाचार में क्यों?   

आपदा संबंधी चेतावनी, आपातकालीन जानकारी और संचार तथा मछुआरों के लिये चेतावनी एवं मछली संभावित क्षेत्रों (Potential Fishing Zones- PFZ) की पहचान के लिये पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय ने 9 अक्तूबर, 2019 को गगन आधारित समुद्री संचालन और जानकारी- जैमिनी (Gagan Enabled Mariner’s Instrument for Navigation and Information- GEMINI) उपकरण लॉन्च किया।

उद्देश्य:

  • मछुआरों की आजीविका बढ़ाने, उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने और मछली पकड़ने की योजना बनाने में सहायता करना।
  • आपातकालीन स्थितियों जैसे चक्रवात के समय सूचनाओं का प्रसार करना।

यह कैसे कार्य करेगा?

  • जैमिनी उपकरण, गगन उपग्रह से प्राप्‍त डाटा को ब्‍लूटूथ संचार द्वारा मोबाइल तक पहुँचाएगा क्योंकि तट से अधिक दूर जाने पर मछुआरों का मोबाइल नेटवर्क संपर्क टूट जाता है।
  • भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र द्वारा विकसित मोबाइल एप्‍लीकेशन से इस सूचना को 9 क्षेत्रीय भाषाओं में प्रदर्शित किया जाएगा।
  • जैमिनी उपकरण के संचालन के लिये गगन प्रणाली के तीन भू-समकालिक उपग्रहों (GSAT-8, GSAT-10 और GSAT-15) का प्रयोग किया जाएगा।

किसके द्वारा संचालन किया जाएगा:

  • इसका संचालन भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र और भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा किया जाएगा।

भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र :

  • यह पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय है।
  • INCOIS का मुख्य अधिदेश महासागर का अवलोकन कर इससे संबंधित जानकारियों को जनसामान्य के लिये सुलभ बनाना है।
  • INCOIS का मुख्यालय हैदराबाद में स्थित है।

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण :

  • यह नागरिक उड्डयन मंत्रालय के तहत एक सांविधिक निकाय है।
  • इसका गठन संसद के एक अधिनियम द्वारा राष्ट्रीय हवाई अड्डा प्राधिकरण और अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा प्राधिकरण का विलय करके किया गया था।
  • इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow