Online Portal Download Mobile App हिंदी ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

चीन-नेपाल के बीच 20 समझौते

16th October-2019

समाचार में क्यों? 

भारत में अनौपचारिक शिखर वार्ता के बाद चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग नेपाल के दौरे पर गए। इस दौरान दोनों देशों के बीच 20 समझौते हुए।

  • इनमें सड़क सुरंग (Road Tunnel) का निर्माण और तिब्बत की ओर रेलवे लिंक को सुविधाजनक बनाने का समझौता भी शामिल है। चीन केरुंग-काठमांडू टनल रोड के निर्माण में मदद करेगा।
  • दोनों देशों के बीच सबसे बड़ी डील ट्रांस-हिमालयन कनेक्टिविटी नेटवर्क को लेकर हुई। दोनों ही देश 2.75 अरब डॉलर के इस नेटवर्क को शुरू करने पर सहमत हुए, जो कि नेपाल को शी जिनपिंग के बेल्ट एंड रोड इशिनिएटिव (BRI) से जोड़ेगी।
  • चीनी राष्ट्रपति ने नेपाल के विकास कार्यक्रमों के लिये 56 अरब नेपाली रुपए की सहायता देने की घोषणा की।
  • इसके अलावा चीन ने काठमांडू को तातोपानी ट्रांजिट पॉइंट से जोड़ने वाले अर्निको राजमार्ग को दुरुस्त करने का भी वादा किया। यह राजमार्ग वर्ष 2015 में आए भूकंप के बाद से बंद है।
  • पिछले 23 वर्षों में किसी चीनी राष्ट्रपति की यह पहली नेपाल यात्रा थी। इससे पहले वर्ष 1996 में जियांग ज़मिन ने नेपाल का दौरा किया था।

क्षेत्र में लगातार बढ़ता जा रहा चीनी प्रभाव :

  • चीन का प्रभाव दक्षिण एशिया में लगातार बढ़ रहा है। नेपाल, श्रीलंका, पाकिस्तान या बांग्लादेश हर जगह चीन की मौजूदगी बढ़ी है। ये सभी देश चीन की बेल्ट रोड परियोजना में शामिल हो गए हैं। लेकिन भारत इस परियोजना के पक्ष में नहीं है।
  • हिंदू बहुल राष्ट्र में चीन का दिलचस्पी लेना काफी अहम है। नेपाल अपनी कई ज़रूरतों के लिये भारत पर निर्भर है, लेकिन वह लगातार भारत से निर्भरता को कम करने की कोशिश कर रहा है।
  • नेपाल के कई स्कूलों में चीनी भाषा मंदारिन को पढ़ना भी अनिवार्य कर दिया गया है। नेपाल में इस भाषा को पढ़ाने वाले शिक्षकों के वेतन का खर्चा भी चीन की सरकार ने उठाने के लिये तैयार है।

                                       *************

 

Topic:  For prelims and mains:

बुकर पुरस्कार: 2019:

समाचार में क्यों? 

कनाडा की मार्गरेट एटवुड (Margaret Atwood) और ब्रिटेन की बर्नाडिन एवरिस्टो (Bernardine Evaristo) को वर्ष 2019 के बुकर पुरस्कार के लिये संयुक्त रूप से चुना गया है।

प्रमुख तथ्य:

  • मार्गरेट एटवुड को उपन्यास द टेस्टामेंट (The Testaments) तथा बर्नाडिन एवरिस्टो को गर्ल, वूमैन, अदर (Girl, Woman, Other) नामक उपन्यास के लिये बुकर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
  • बुकर पुरस्कार सामान्यतः केवल एक ही व्यक्ति को दिया जाता है, परंतु निर्णायक मंडल द्वारा इस बार दो लेखिकाओं को संयुक्त रूप से चुना गया।
  • इससे पहले भी वर्ष 1974 तथा वर्ष 1992 में यह पुरस्कार संयुक्त रूप से दिया जा चुका है।
  • मार्गरेट एटवुड सर्वाधिक आयु (79वर्ष) की बुकर पुरस्कार विजेता बनी हैं जबकि बर्नाडिन एवारिस्टो बुकर पुरस्कार पाने वाली पहली अश्वेत महिला हैं।
  • मार्गरेट एटवुड दूसरी बार बुकर पुरस्कार विजेता बनीं हैं। पहली बार उन्हें यह पुरस्कार वर्ष 2000 में उनकी पुस्तक द ब्लाइंड असेसिन (Blind Assassin) के लिये मिला था।
  • मार्गरेट एटवुड से पहले ब्रिटिश लेखिका हिलेरी मेंटल (Hilary Mantel) ने यह पुरस्कार दो बार जीता था।

बुकर पुरस्कार के बारे में:

  • बुकर पुरस्कार वर्ष 1969 से प्रदान किया जा रहा है।
  • बुकर पुरस्कार वर्ष के सर्वोत्तम अंग्रेज़ी उपन्यास को दिया जाता है, इस उपन्यास का प्रकाशन यूनाइटेड किंगडम या आयरलैंड में होना चाहिये।

भारत और बुकर पुरस्कार:

  • भारत के तीन लेखकों; अरविंद अडिगा को वर्ष 2008 में उनके उपन्यास द व्हाइट टाइगर (The White Tiger) के लिये,
  • किरण देसाई को वर्ष 2006 में उपन्यास द इनहेरिटेंस ऑफ लॉस (The Inheritance of Loss) के लिये तथा अरुधंति रॉय को उपन्यास गॉड ऑफ स्मॉल थिंग्स (God of Small Things) के लिये बुकर पुरस्कार मिल चुका है।
  • भारतीय मूल के ब्रिटिश लेखक सलमान रुश्दी के उपन्यास क्विचोटे (Quichotte) को इस वर्ष के बुकर पुरस्कार के लिये अंतिम छह उपन्यासों में शामिल किया गया था।
  • सलमान रुश्दी को इससे पहले वर्ष 1981 में उनके उपन्यास मिडनाइट्स चिल्ड्रेन के लिये बुकर पुरस्कार मिला।

*************

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow