Online Portal Download Mobile App English ACE +91 9415011892 / 9415011893

डेली करेंट अफेयर्स 2020

विषय: प्रीलिम्स और मेन्स के लिए

चक्रवात ‘निवार’

G.S. Paper-I

अम्फान-

अम्फान (Amphan), निसर्ग (Nisarga) और गति (Gati) चक्रवातों के पश्चात, चक्रवातनिवार’ (Cyclone ‘Nivar’) पुडुचेरी के कराईकल की ओर बढ़ रहा है और इस क्षेत्र में 25 नवंबर को तबाही मचा सकता है।

  1. उत्तर हिंद महासागर चक्रवातों के नामों के लिए नई सूची वर्ष 2020 में जारी की गयी थी, निवार’ (Nivar)इस सूची का तीसरा नाम है, जिसे ईरान द्वारा सुझाया गया है।
  2. अम्फान (Amphan),चक्रवात का नामकरण थाईलैंड द्वारा किया गया था, और यह वर्ष 2004 की श्रृंखला का अंतिम नाम था।
  3. जून माह के दौरान महाराष्ट्र में आने वाले चक्रवातनिसर्ग (Nisarga) का नामकरण बांग्लादेश द्वारा किया गया था, जबकि भारत ने, 22 नवंबर को सोमालिया में तबाही मचाने वाले चक्रवात को गति (Gati)’ नाम दिया था।

चक्रवातों का नामकरण-

विश्व मौसम विज्ञान मौसम संगठन (World Meteorological Organisation- WMO) और एशिया और प्रशांत के लिए संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग (United Nations Economic and Social Commission for Asia and the Pacific) द्वारा वर्ष 2000 में आयोजित अपने 27 वें सत्र के दौरान निर्धारित किए गए फार्मूले के अनुसार, बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में उत्पन्न होने वाले उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के नाम, बांग्लादेश, भारत, मालदीव, म्यांमार, ओमान, पाकिस्तान, श्रीलंका, थाईलैंड, ईरान, कतर, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और यमन द्वारा सुझाए जाते हैं।

फार्मूले के अनुसार, प्रत्येक देश चक्रवातों के लिए सूची में 13 नाम प्रदान करता है।

नवीनतम सूची में भारत द्वारा प्रस्तावित नाम:

चक्रवातों के लिए नामों की नवीनतम सूची में भारत द्वारा गति, तेज, मरासु (तमिल में संगीत वाद्ययंत्र), आग और नीर आदि नाम प्रस्तावित किए गए है।

अप्रैल 2020 में सदस्य देशों द्वारा आगामी चक्रवातों के लिए निम्नलिखित नाम प्रस्तावित किये गए हैं:

  1. बुरेवी (Burevi) मालदीव, तौक्ते (Tauktae) म्यांमार, यास (Yaas) ओमान, और गुलाब (Gulab) पाकिस्तान।
  2. ये 13 देशों द्वारा सुझाए गए कुल 169 नामों में से चक्रवातों के लिए प्रस्तावित कुछ नाम हैं।

प्री के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

15वां G20 शिखर सम्मेलन

सऊदी अरब की अध्यक्षता में वर्चुअल माध्यम से आयोजित किया गया।

  • शिखर सम्मेलन की समाप्ति, लीडर्स डिक्लेरेशनको अपनानेऔर अगले G20 शिखर सम्मेलन की अध्यक्षता इटली को सौपने के साथ हुई।
  • इसके साथ हीभारत द्वारा वर्ष 2023 में शिखर सम्मेलन की मेजबानी किये जाने की घोषणा की गयी- पूर्व में, भारत द्वारा 2022 में G20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी की जानी थी।
  • पिछले साल G20 की ओसाका घोषणा में भारत को 2022 में शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने के लिए कहा गया था।

 

नवीनतम समाचार

get in touch with the best IAS Coaching in Lucknow